Best Astrologer In jaipur. Astrologer Peeyush Vashisth
Get Astrology predictions on Phone, Call Us on 9829412361
It's completely free (even though a donation is appreciated)
Camera slideshow provides many options to customize your project as more as possible
It supports captions, HTML elements and videos.

Mahashivratri Puja Vidhi Remedies How To Do Puja On Mahashivratri

Celebrate Shivratri 2016 on 7th March, Monday

Shivaratri is celebrated on the 6th night of the dark Phalgun (Feb or March) every year. On the auspicious day, devotees observe fast and keep vigil all night. Mahashivaratri marks the night when Lord Shiva performed the ′Tandava′. It is also believed that on this day Lord Shiva was married to Parvati Ma. On this day Shiva devotees observe fast and offer fruits, flowers and bel leaves on Shiva Linga. Shivaratri is also spelled as Shivratri, Shivarathri and Sivaratri.

Maha Shivaratri Muhurta


Nishita Kaal Puja Time = 24:06+ to 24:56+
Duration = 0 Hours 49 Mins
On 8th, Maha Shivaratri Parana Time = 06:42 to 10:34
Ratri First Prahar Puja Time = 18:21 to 21:26
Ratri Second Prahar Puja Time = 21:26 to 24:31+
Ratri Third Prahar Puja Time = 24:31+ to 27:36+
Ratri Fourth Prahar Puja Time = 27:36+ to 30:42+
Chaturdashi Tithi Begins = 13:20 on 7/Mar/2016
Chaturdashi Tithi Ends = 10:34 on 8/Mar/2016

Maha Shivaratri 2016


Shivaratri is great festival of convergence of Shiva and Shakti. Chaturdashi Tithi during Krishna Paksha in month of Magha is known as Maha Shivaratri according to South Indian calendar. However according to North Indian calendar Masik Shivaratri in month of Phalguna is known as Maha Shivaratri. In both calendars it is naming convention of lunar month which differs. However both, North Indians and South Indians, celebrate Maha Shivaratri on same day. 

Vrat Vidhi – One day before Shivaratri Vratam, most likely on Trayodashi, devotees should eat only one time. On Shivaratri day, after finishing morning rituals devotees should take Sankalp (संकल्प) to observe full day fast on Shivaratri and to take food next day. During Sankalp devotees pledge for self-determination throughout the fasting period and seek blessing of Lord Shiva to finish the fast without any interference. Hindu fasts are strict and people pledge for self-determination and seek God blessing before starting them to finish them successfully. 

On Shivaratri day devotees should take second bath in the evening before doing Shiva Puja or visiting temple. Shiva Puja should be done during night and devotees should break the fast next day after taking bath. Devotees should break the fast between sunrise and before the end of Chaturdashi Tithi to get maximum benefit of the Vrat. According to one contradictory opinion devotees should break the fast only when Chaturdashi Tithi gets over. But it is believed that both Shiva Puja and Parana (पारणा) i.e. breaking the fast should be done within Chaturdashi Tithi. 

Shivaratri puja can be performed one time or four times during the night. The whole night duration can be divided into four to get four Prahar (प्रहर) to perform Shiva Puja four times. Drikpanchang.com lists all four Prahar durations for staunch Shiva devotees who perform Shiva Pujan four times in the night. We also list Nishita time when Lord Shiva appeared on the Earth in the form of Linga and the time window to break the fast on next day. 

Mahashivaratri Festival


Mahashivaratri Festival or the ‘The Night of Shiva’ is celebrated with devotion and religious fervor in honor of Lord Shiva, one of the deities of Hindu Trinity. Shivaratri falls on the moonless 14th night of the new moon in the Hindu month of Phalgun, which corresponds to the month of February - March in English Calendar. Celebrating the festival of Shivaratri devotees observe day and night fast and perform ritual worship of Shiva Lingam to appease Lord Shiva.
Legends of MahashivratriThere are various interesting legends related to the festival of Maha Shivaratri. According to one of the most popular legends, Shivaratri marks the wedding day of Lord Shiva and Parvati. Some believe that it was on the auspicious night of Shivaratri that Lord Shiva performed the ‘Tandava’, the dance of the primal creation, preservation and destruction. Another popular Shivratri legend stated in Linga Purana states that it was on Shivaratri that Lord Shiva manifested himself in the form of a Linga. Hence the day is considered to be extremely auspicious by Shiva devotees and they celebrate it as Mahashivaratri - the grand night of Shiva.

Traditions and Customs of ShivaratriVarious traditions and customs related to Shivaratri Festival are dutifully followed by the worshippers of Lord Shiva. Devotees observe strict fast in honor of Shiva, though many go on a diet of fruits and milk some do not consume even a drop of water. Devotees strongly believe that sincere worship of Lord Shiva on the auspicious day of Shivaratri, absolves a person of sins and liberates him from the cycle of birth and death. Shivaratri is considered especially auspicious for women. While married women pray for the well being of their husbands unmarried women pray for a husband like Lord Shiva, who is regarded as the ideal husband.
To mark the Shivratri festival, devotees wake up early and take a ritual bath, preferably in river Ganga. After wearing fresh new clothes devotees visit the nearest Shiva temple to give ritual bath to the Shiva Lingum with milk, honey, water etc.
On Shivaratri, worship of Lord Shiva continues all through the day and night. Every three hours priests perform ritual pooja of Shivalingam by bathing it with milk, yoghurt, honey, ghee, sugar and water amidst the chanting of “Om Namah Shivaya’ and ringing of temple bells. Nightlong vigil or jaagran is also observed in Shiva temples where large number of devotees spend the night singing hymns and devotional songs in praise of Lord Shiva. It is only on the following morning that devotee break their fast by partaking prasad offered to the deity.

महाशिवरात्रि’ के इस परम-पावन पर्व पर “अच्छीखबर-परिवार” के सभी सदस्यों को ढेर सारी शुभ कामनाएँ | मित्रों, कुछ विद्वानों का मत है कि आज ही के दिन शिवजी और माता पार्वती विवाह-सूत्र में बंधे थे जबकि अन्य कुछ विद्वान् ऐसा मानते हैं कि आज के ही दिन शिवजी ने ‘कालकूट’ नाम का विष पिया था जो सागरमंथन के समय अमृत से पहले समुद्र से निकला था |स्मरणीय है कि यह समुद्रमंथन देवताओं और असुरों ने अमृत-प्राप्ति के लिए मिलकर किया था |एक शिकारी की कथा भी इस त्यौहार के साथ जुड़ी  हुई है कि कैसे उसके अनजाने में की गई पूजा से प्रसन्न होकर भगवान् शिव ने उस [शिकारी] पर अपनी असीम कृपा बरसाई थी | वही पौराणिक कथा, आज मैं संक्षेप में, आपसे शेयर कर रही हूँ जो “शिव पुराण” में संकलित है ….
प्राचीन काल में ,किसी जंगल में गुरुद्रुह नाम का एक शिकारी रहता था जो जंगली जानवरों के शिकार द्वारा अपने परिवार का भरण-पोषण किया करता था |एक बार शिव-रात्रि के दिन ही   जब वह शिकार के लिए गया ,तब संयोगवश पूरे दिन खोजने के बाद भी उसे कोई जानवर शिकार के लिए न मिला, चिंतित हो कर कि आज उसके बच्चों, पत्नी एवं माता-पिता को भूखा रहना पड़ेगा, वह सूर्यास्त होने पर भी एक जलाशय के समीप गया और वहां एक घाट के किनारे एक पेड़ पर अपने साथ थोड़ा सा जल पीने के लिए लेकर, चढ़ गया क्योंकि उसे पूरी उम्मीद थी कि कोई न कोई जानवर अपनी प्यास बुझाने के लिए यहाँ ज़रूर आयेगा |वह पेड़ ‘बेल-पत्र’ का था और इसके नीचे शिवलिंग भी था जो सूखे बेलपत्रों से ढक जाने के कारण दिखाई नहीं दे रहा था |
       रात का पहला प्रहर बीतने से पहले ही एक हिरणी वहां पर पानी पीने के लिए आई |उसे देखते ही शिकारी ने अपने धनुष पर बाण साधा |ऐसा करते हुए,उसके हाथ के धक्के से कुछ पत्ते एवं जल की कुछ बूंदे पेड़ के  नीचे बने शिवलिंग पर गिरीं और अनजाने में ही शिकारी की पहले प्रहर की पूजा हो गयी |हिरणी ने जब पत्तों की खड़खड़ाहट सुनी ,तो घबरा कर ऊपर की ओर देखा और भयभीत हो कर,  शिकारी से , कांपते हुए बोली- ‘मुझे मत मारो |’ शिकारी ने कहा कि वह और उसका परिवार भूखा है इसलिए वह उसे नहीं छोड़ सकता |हिरणी ने शपथ ली कि वह अपने बच्चों को अपने स्वामी को सौंप कर लौट आयेगी| तब वह उसका शिकार कर ले |शिकारी को उसकी बात का विश्वास नहीं हो रहा था |उसने फिर से शिकारी को यह कहते हुए अपनी बात का भरोसा करवाया कि जैसे सत्य पर ही धरती टिकी है; समुद्र मर्यादा में रहता है और झरनों से जल-धाराएँ गिरा करती हैं वैसे ही वह भी सत्य बोल रही है | क्रूर होने के बावजूद भी, शिकारी को उस पर दया आ गयी और उसने ‘जल्दी लौटना’ कहकर ,उस हिरनी को जाने दिया |
थोड़ी ही देर गुज़री कि एक और हिरनी वहां पानी पीने आई, शिकारी सावधान हो , तीर सांधने लगा और ऐसा करते हुए ,उसके हाथ के धक्के से फिर पहले की ही तरह थोडा जल और कुछ बेलपत्र नीचे शिवलिंग पर जा गिरे और अनायास ही शिकारी की दूसरे प्रहर की पूजा भी हो गयी |इस हिरनी ने भी भयभीत हो कर, शिकारी से जीवनदान की याचना की लेकिन उसके अस्वीकार कर देने पर ,हिरनी ने उसे लौट आने का वचन, यह कहते हुए दिया कि उसे ज्ञात है कि जो वचन दे कर पलट जाता है ,उसका अपने जीवन में संचित पुण्य नष्ट हो जाया करता है | उस शिकारी ने पहले की तरह, इस हिरनी के वचन का भी भरोसा कर उसे जाने दिया |
अब तो वह इसी चिंता से व्याकुल हो रहा था कि उन में से शायद ही कोई हिरनी लौट के आये और अब उसके परिवार का क्या होगा |इतने में ही उसने जल की ओर आते हुए एक हिरण को देखा, उसे देखकर वनेचर (शिकारी ) को बड़ा हर्ष हुआ ,अब फिर धनुष पर बाण चढाने से उसकी तीसरे प्रहर की पूजा भी स्वतः ही संपन्न हो गयी लेकिन पत्तों के गिरने की आवाज़ से वह हिरन सावधान हो गया |उसने व्याध (शिकारी ) को देखा और पूछा –“क्या करना चाहते हो ?” वह बोला-“अपने कुटुंब को भोजन देने के लिए तुम्हारा वध करूंगा |” वह मृग प्रसन्न हो कर कहने लगा – “मैं धन्य हूँ कि मेरा ये हृष्ट-पुष्ट शरीर किसी के काम आएगा, परोपकार से मेरा जीवन सफल हो जायेगा लेकिन एक बार मुझे जाने दो ताकि मैं अपने बच्चों को उनकी माता के हाथ में सौंप कर और उन सबको धीरज बंधा कर यहाँ लौट आऊं |” शिकारी का ह्रदय, उसके पापपुंज नष्ट हो जाने से अब तक शुद्ध हो गया था इसलिए वह कुछ विनम्र वाणी में बोला –‘ जो-जो यहाँ आये ,सभी बातें बनाकर चले गये और अब तक नहीं लौटे ,यदि तुम भी झूठ बोलकर चले जाओगे ,तो मेरे परिजनों का क्या होगा ?” अब हिरन ने यह कहते हुए उसे अपने सत्य बोलने का भरोसा दिलवाया कि यदि वह लौटकर न आये; तो उसे वह पाप लगे जो उसे लगा करता है जो  सामर्थ्य रहते हुए भी दूसरे का उपकार नहीं करता | व्याध ने उसे भी यह कहकर जाने दिया कि ‘शीघ्र लौट आना |’
 रात्रि का अंतिम प्रहर शुरू होते ही उस वनेचर के हर्ष की सीमा न थी क्योंकि उसने उन सब हिरन-हिरनियों को अपने बच्चों सहित एकसाथ आते देख लिया था |उन्हें देखते ही उसने अपने धनुष पर बाण रखा और पहले की ही तरह उसकी चौथे प्रहर की भी शिव-पूजा संपन्न हो गयी | अब उस शिकारी के शिव कृपा से सभी पाप भस्म हो गये इसलिए वह सोचने लगा-‘ओह, ये पशु धन्य हैं जो ज्ञानहीन हो कर भी अपने शरीर से परोपकार करना चाहते हैं लेकिन धिक्कार है मेरे जीवन को कि मैं अनेक प्रकार के कुकृत्यों से अपने कुटुंब का पालन करता रहा |’ अब उसने अपना बाण रोक लिया तथा सब मृगों को यह कहकर कि ‘वे धन्य हैं’;  वापिस जाने दिया |उसके ऐसा करने पर भगवान् शंकर ने प्रसन्न हो कर तत्काल उसे अपने दिव्य स्वरूप का दर्शन करवाया तथा उसे सुख-समृद्धि का वरदान देकर “गुह’’ नाम प्रदान किया |मित्रों, यही वह गुह था जिसके साथ भगवान् श्री राम ने मित्रता की थी |
मित्रों, अंतत:, यही कहना चाहती हूँ कि जटाओं में गंगाजी को धारण करने वाले, सिर पर चंद्रमा को सजाने वाले,मस्तक पर त्रिपुंड तथा तीसरे  नेत्र वाले ,कंठ में कालपाश [नागराज] तथा रुद्रा- क्षमाला से सुशोभित , हाथ में डमरू और त्रिशूल है जिनके  और भक्तगण बड़ी  श्रद्दा से  जिन्हें  शिवशंकर, शंकर, भोलेनाथ, महादेव, भगवान् आशुतोष, उमापति, गौरीशंकर, सोमेश्वर, महाकाल, ओंकारेश्वर, वैद्यनाथ, नीलकंठ, काशीविश्वनाथ, त्र्यम्बक, त्रिपुरारि, सदाशिव तथा अन्य सहस्त्रों नामों से संबोधित कर उनकी पूजा-अर्चना किया करते हैं —– ऐसे भगवान् शिव एवं शिवा हम सबके चिंतन को सदा-सदैव सकारात्मक बनायें एवं  सबकी मनोकामनाएं पूरी करें |
Astrologer Peeyush Vashisth
Astrologer Peeyush Vashisth

Previous
Next Post »

Thanks for your valuable comments.
To know more about astrology or to read more articles you may visit our another website: We also provide online astrology consultancy service .+91 9829412361

Admin
EmoticonEmoticon